img

दूनागिरी वह स्थान है जहां कभी ऋषि द्रोण का आश्रम हुआ करता था

दूनागिरी अल्मोड़ा जिले का एक हिल स्टेशन है। अल्मोड़ा जिला मुख्यालय से इसकी दूरी करीब 60 किमी है। यह रानीखेत-कर्णप्रयाग मार्ग पर द्वाराहाट से 15 किमी की दूरी पर स्थित है।

img

उत्तराखंड के बारे में सबसे दिलचस्प तथ्य

देवताओं की भूमि के रूप में लोकप्रिय उत्तराखंड भारत के सबसे खूबसूरत राज्यों में से एक है।

img

हरिद्वार, जिसे हरद्वार भी कहा जाता है, भारतीय राज्य उत्तराखण्ड का एक जिला है, जिसके मुख्यालय हरिद्वार नगर में स्थित हैं।

हरिद्वार के उत्तर में देहरादून जिला, पूर्व में पौड़ी गढ़वाल जिला, पश्चिम में उत्तर प्रदेश राज्य का सहारनपुर जिला तथा दक्षिण में उत्तर प्रदेश राज्य के ही मुजफ्फरनगर तथा बिजनौर जिले हैं।

img

ऋषिकेश उत्तराखंड के देहरादून जिले में एक शहर, हिंदू तीर्थस्थल, नगर निगम और तहसील है।

यह ऋषिकेश गढ़वाल हिमालय का प्रवेश द्वार और योग की वैश्विक राजधानी है। ऋषिकेश हरिद्वार से 25 किमी उत्तर में और देहरादून से 43 किमी दक्षिण-पूर्व में स्थित है।

img

उत्तराखंड में घूमने के लिए शीर्ष अद्भुत स्थान

उत्तराखंड में खूबसूरत बर्फ से ढके पहाड़ों से लेकर फूलों की घाटी से लेकर रहस्यमय भूमि तक हर चीज के साथ घूमने के लिए कई जादुई जगहें हैं।

img

गंगोत्री, भागीरथी के दाहिने ओर का परिवेश अत्यंत आकर्षक एवं मनोहारी है।

गंगोत्री गंगा नदी का उद्गम स्थान है। गंगाजी का मंदिर, समुद्र तल से 3042 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।

img

नंदप्रयाग एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल एवम् हिन्दू धर्म के प्रसिद्ध पर्वतीय तीर्थों में से एक है।

नंदाकिनी तथा अलकनंदा नदियों के संगम पर नन्दप्रयाग स्थित है।

img

प्राचीन कोटेश्वर मंदिर भगवान शिव की आराधना के रूप में प्रसिद्ध है, साथ ही इस मंदिर की दीवारों पर सदियों पुरानी पेंटिंग आज भी जीवित है

इस शिवलिंग के बारे में कहा जाता है इस शिवलिंग को औरंगजेब ने किले से निकाल फेंका था, जहां यह शिवलिंग गिरा था वह सिंधिया ने मंदिर स्थापित किया था। 

img

उत्तराखंड की कला और शिल्प | उत्तराखंड की संस्कृति

देवी-देवताओं का निवास, पृथ्वी पर स्वर्ग, पवित्र नदियों का घर, और धार्मिक स्थलों से युक्त, उत्तराखंड राज्य को भारत की पवित्र भूमि के रूप में जाना जाता है।

img

त्रियुगीनारायण मंदिर उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले के त्रियुगीनारायण गांव में स्थित एक हिंदू मंदिर है।

त्रियुगीनारायण मंदिर का यह प्राचीन मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है।

img

उत्तराखंड संस्कृति और परंपरा

उत्तराखंड को पहले उत्तरांचल के नाम से जाना जाता था, जिसे देव भूमि "देवताओं की भूमि" भी कहा जाता है, क्योंकि वहां बड़ी संख्या में तीर्थ मंदिर स्थित हैं, बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री चार धाम यात्रा करते हैं।

img

कर्णप्रयाग में अलकनंदा नदी और पिण्डर हिमनद का संगम होता है।

कर्णप्रयाग धार्मिक पंच केदारों में देवप्रयाग तथा रूद्रप्रयाग से पहले तीसरा प्रयाग तथा मनोहर स्थान है। 

img

केदारनाथ का इतिहास

गिरिराज हिमालय की केदार नामक चोटी पर स्थित है देश के बारह ज्योतिर्लिंगों में सर्वोच्च केदारेश्वर ज्योतिर्लिंग। केदारनाथ धाम और मंदिर तीन तरफ पहाड़ों से घिरा है। एक तरफ है करीब 22 हजार फुट ऊंचा केदारनाथ, दूसरी तरफ है 21 हजार 600 फुट ऊंचा खर्चकुंड और तीसरी तरफ है 22 हजार 700 फुट ऊंचा भरतकुंड। न सिर्फ तीन पहाड़ बल्कि पांच नदियों का संगम भी है यहां- मं‍दाकिनी, मधुगंगा, क्षीरगंगा, सरस्वती और स्वर्णगौरी। इन नदियों में से कुछ का अब अस्तित्व नहीं रहा लेकिन अलकनंदा की सहायक मंदाकिनी आज भी मौजूद है। इसी के किनारे है केदारेश्वर धाम। यहां सर्दियों में भारी बर्फ और बारिश में जबरदस्त पानी रहता है।

यह उत्तराखंड का सबसे विशाल शिव मंदिर है, जो कटवां पत्थरों के विशाल शिलाखंडों को जोड़कर बनाया गया है। ये शिलाखंड भूरे रंग के हैं। मंदिर लगभग 6 फुट ऊंचे चबूतरे पर बना है। इसका गर्भगृह अपेक्षाकृत प्राचीन है जिसे 80वीं शताब्दी के लगभग का माना जाता है।  मंदिर के गर्भगृह में अर्धा के पास चारों कोनों पर चार सुदृढ़ पाषाण स्तंभ हैं, जहां से होकर प्रदक्षिणा होती है। अर्धा, जो चौकोर है, अंदर से पोली है और अपेक्षाकृत नवीन बनी है। सभामंडप विशाल एवं भव्य है। उसकी छत चार विशाल पाषाण स्तंभों पर टिकी है। विशालकाय छत एक ही पत्थर की बनी है। गवाक्षों में आठ पुरुष प्रमाण मूर्तियां हैं, जो अत्यंत कलात्मक हैं।

img

यमुनोत्री भारत के उत्तराखंड राज्य के उत्तरकाशी जिले में स्थित है।

यमुनोत्री उत्तरकाशी जिले में समुद्रतल से 3235 मी. ऊँचाई पर स्थित एक मंदिर है, यह मंदिर देवी यमुना का मंदिर है।

img

भारत के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक मुक्तेश्वर मंदिर भी आता है जो भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित है

मुक्तेश्वर मंदिर इस दुनिया के निर्माता भगवान शिव को समर्पित है। यह मंदिर मुक्तेश्वर में सबसे ऊंचे स्थान पर स्थित है। 

Popular

Popular Post